सिटी न्यूज़

UP Elections 2022 : टिकट न मिलने पर मुजफ्फरनगर थाने में फूट—फूटकर रोया BSP नेता अरशद राणा

UP Elections 2022 : टिकट न मिलने पर मुजफ्फरनगर थाने में फूट—फूटकर रोया BSP नेता अरशद राणा
UP City News | Jan 14, 2022 01:27 PM IST

मुजफ्फरनगर. उत्तर प्रदेश चुनाव (UP Elections 2022) से पूर्व जिले में एक अनोखा मामला सामने आया है. विधानसभा चुनाव का टिकट नहीं मिलने पर गुरुवार को बसपा नेता अरशद राणा (Arshad Rana) थाने पहुंच गए और फूट—फूटकर रोने लगे. अरशद राणा ने टिकट के नाम पर 67 लाख रुपये लिए जाने का आरोप लगाया है. बसपा से चरथावल के प्रभारी अरशद राणा ने जिले के ही शमसुद्दीन राइन (Shamsuddin Rain) पर पैसे लेने का आरोप लगाया और कहा कि वह लगातार प्रचार कर रहे हैं और अब टिकट नहीं मिलने से वह बर्बाद हो जाएंगे. उन्होंने थाने में शिकायत दर्ज कराते हुए कहा यदि उनके पैसे नहीं लौटाए गए तो वह आत्मदाह कर लेंगे. इस घटनाक्रम के बाद टिकट के एवज में बसपा द्वारा चंदा लिए जाने के मामले ने जोर पकड़ लिया है.

बसपा के चरथावल विधानसभा क्षेत्र प्रभारी अरशद राणा गुरुवार देर शाम नगर कोतवाली थाने पहुंचे. यहां वह कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्र को तहरीर देते हुए फूट-फूटकर रोने लगे. अरशद राणा ने कहा कि चुनाव की तारीख घोषित होने पर उन्होंने बसपा जिलाध्यक्ष सतीश कुमार से टिकट की मांग की तो उन्होंने 50 लाख रुपये की व्यवस्था करने की बात कही. उसने इस पर भी हामी भर दी और शमसुद्दीन राइन को पैसे दे दिए. इसके बावजूद उनके स्थान पर सलमान राइन को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया. आरोप लगाया कि प्रत्याशी के नाम की घोषणा होने के बाद से वह शमसुद्दीन राइन को फोन कर रहे हैं लेकिन उनका फोन नहीं उठाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: बीएसपी से रामवीर उपाध्याय ने दिया इस्तीफा, यूपी की सियासत में बढ़ेगी हलचल

उन्होंने बताया कि वह टिकट का आश्वासन मिलने के बाद से ही लगतार प्रचार कर रहे हैं. शहर में उनके होर्डिंग लगे हैं और लगातार अखबारों में विज्ञापन दिया जा रहा है. इसमें भी उनका लाखों रुपये खर्च हो चुका है लेकिन अब उनका टिकट काट दिया गया. उन्होंने कहा कि इससे उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा प्रभावित हुई है. उन्होंने चेतावनी दी यदि उनके रुपये नहीं लौटाए गए तो वह लखनऊ स्थित बसपा कार्यालय के सामने आत्मदाह कर लेंगे. कोतवाली थाना प्रभारी आनंद देव मिश्र ने उनकी तहरीर लेकर उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें शांत किया.