सिटी न्यूज़

Ban on Recruitment : चयन बोर्ड को पांच हजार पदों पर करनी है भर्ती, आचार संहिता लगने से कई और भर्ती और परीक्षाएं अटकी

Ban on Recruitment : चयन बोर्ड को पांच हजार पदों पर करनी है भर्ती,  आचार संहिता लगने से कई और भर्ती और परीक्षाएं अटकी
UP City News | Jan 09, 2022 10:25 AM IST

प्रयागराज. उप्र में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा होने के बाद ही आचार संहिता भी लग गई. जिसके कारण कई भर्ती परीक्षाएं अब फंस गई हैं. इसी प्रकार उप्र माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के प्रशिक्षित स्नातक व पोस्ट ग्रेजुएट टीचर भर्ती के 5000 पदों को रिक्विजिशन (अधियाचन) मिल चुका है. आचार संहिता लगने के बाद अब इसकी भर्ती फंस गई हैं. इसी तरह प्रदेश के अशासकीय महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर भी नई भर्ती नहीं हो पाएगी. हालांकि, लोक सेवा आयोग की भर्ती परीक्षाओं पर आचार संहिता का कोई असर नहीं होगा.

ये भी पढ़ें: रिक्त पदों पर भर्ती शुरू करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे बेरोजगारों को पुलिस ने खदेड़ा

जानकारी के अनुसार चयन बोर्ड में TGT और PGT के कुल 39 विषयों में कुल 5 हजार पदों को भरने की तैयारी थी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव-2022 की आचार संहिता को देखते हुए प्रतियोगी लगातार चयन बोर्ड पर धरना-प्रदर्शन कर रहे थे. विज्ञापन निकालकर भर्ती परीक्षा शुरू करने की मांग कर रहे थे. इसी तरह उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग द्वारा भी प्रदेश के अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 2 हजार रिक्त पड़े पदों को भरा जाना था. अभ्यर्थी लगातार जल्दी विज्ञापन निकालने की मांग कर रहे थे, पर आयोग की हीला-हवाली के कारण यह भर्ती अब चुनाव के बाद ही हो सकेगी. अभ्यर्थियों ने भर्ती का विज्ञापन निकालने के लिए उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग के अध्यक्ष को एक ज्ञापन भी सौंपा था. ज्ञापन में भर्ती परीक्षा जल्द शुरू करने की मांग की गई थी.

लगातार भर्ती परीक्षाओं का पेपर आउट होने और भर्ती में हो रही देरी से यूपी का प्रतियोगी नाराज है. युवाओं की नाराजगी सरकार को झेलनी पड़ सकती है. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव जगदीश का कहना है कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग एक संवैधानिक संस्था है. लिहाजा, इसकी भर्ती परीक्षाओं पर आचार संहिता का कोई असर नहीं होगा. हम जल्द ही यूपी पीसीसीएस व स्टाफ नर्स ग्रेड-2 के रिक्त पदों पर जल्द ही भर्ती परीक्षा कराएंगे. इसका अधियाचन (रिक्तियों के संबंध में आदेश) शासन से मिल चुका है. उन्होंने बताया कि हम जल्द ही उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग का परीक्षा कैलेंडर जारी करेंगे. हम चुनाव आयोग के कार्यक्रम का इंतजार कर रहे थे, ताकि भर्ती परीक्षाओं की तारीखें चुनाव की तारीखों से मैच न खाएं.