सिटी न्यूज़

अब मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़ा आया सामने

अब मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़ा आया सामने
UP City News | Jun 25, 2022 03:56 PM IST

चंदौली: उत्तर प्रदेश के चंदौली (Chandauli) ज़िले के शहाबगंज में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना (Mukhyamantri Samuhik Vivah yojna) में फर्जीवाड़े (Fraud) का मामला सामने आया है. एक विवाहिता ने शहाबगंज खंड विकास अधिकारी (BDO) दिनेश सिंह को पत्र लिख कर अपने पति की सामूहिक विवाह योजना में नाबालिग लड़की से दूसरी शादी रचाने की शिकायत की है. पत्र में विवाहिता ने लिखा है कि, वर्ष 2020 में उसकी शादी ग्राम सभा मूसाखांड निवासी लक्ष्मण के साथ हुई थी. लक्ष्मण ने 17 जून को शहाबगंज ब्लॉक मुख्यालय पर आयोजित मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह (Chief Minister Mass marriage and Grant Scheme) में एक नाबालिग के साथ दूसरी शादी कर ली है. इस मामले में बीडीओ दिनेश सिंह ने कहा की मामले की जांच करवाई जाएगी.

पीड़िता ने मामले की जांच करवाने के साथ ही सामूहिक विवाह योजना में मिलने वाली अनुदान राशि का गलत तरीके से फायदा उठाने और सरकारी धन का धोखाधड़ी से भुगतान किए जाने के मामले में मुकदमा दर्ज करवाने की भी मांग की है. जानकारी के अनुसार, महिला के वीडियो से शिकायत करने के बाद उन्होंने इसकी जांच कराने की बात कही है, लेकिन इस मामले में कोई भी जिम्मेदार अफसर बोलने को तैयार नहीं है. पीड़ित महिला का कहना है की, अफसरों की लापरवाही के चलते उसके पति ने एक नाबालिग लड़की से शादी कर ली है. जिम्मेदार अफसरों ने यह भी नहीं जाँचा की लड़की बालिग है या नाबालिग.

गौरतलब है कि इससे पहले भी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में कई बार घपला होने के मामले सामने आ चुकी है. जानकारी के अनुसार, सामूहिक विवाह योजना के तहत राज्य सरकार एक दंपति पर करीब ₹1,50,000 खर्च करती है जिससे लालच में इस तरह के फर्जीवाड़े सामने आते रहते हैं. कुछ दिन पहले ही इस योजना में एक पुरुष ने अपनी ही पत्नी से दोबारा शादी करके सरकारी सहायता प्राप्त कर ली थी.

वहीं दूसरी ओर गाजीपुर जिले में 10 जून को आरटीआई मैदान में सम्पन्न हुए एक सामूहिक विवाह में अपनी शादी करवाने वाले 54 जोड़ों के खाते में 15 दिन बाद भी आर्थिक मदद की धनराशि नहीं भेजी गई है. इन सभी जोड़ों के खाते में ₹35,000 की धनराशि भेजी जानी थी. राशि न मिलने के पीछे कारण ये दिया जा रहा है के शासन की तरफ से निर्धारित संख्या से ज्यादा शादियां करवाई गई है. समाज कल्याण अधिकारी राम नगीना यादव का कहना है की पिछले 10 जून को सामूहिक विवाह योजना में 250 लड़कियों की शादी का लक्ष्य था लेकिन 418 लड़कियों की शादी करवाई गई. बजट की कमी होने के कारण 54 जोड़ के खातों में पैसा नहीं भेजा जा सका. शासन से बजट मिलते ही खातों में पैसा भेज दिया जाएगा.