सिटी न्यूज़

अब हाथ के नहीं साइकिल के साथ हैं कपिल सिब्बल, सपा की टिकट पर किया राज्यसभा के लिए नामांकन

अब हाथ के नहीं साइकिल के साथ हैं कपिल सिब्बल, सपा की टिकट पर किया राज्यसभा के लिए नामांकन
UP City News | May 25, 2022 01:47 PM IST

लखनऊ. कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल ने अपनी पुरानी पार्टी के हाथ का साथ छोड़कर अब साइकिल की सवारी करना शुरू कर दिया है. अब कपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा जाएंगे. इसके लिए उन्होंने बुधवार को नामांकल पत्र भी दाखिल कर दिया. इस दौरान अखिलेश यादव सहित कई दिग्गत मौजूद रहे.

राज्यसभा की 11 सीटों के लिए नामांकन शुरू होने के साथ ही सपा ने अपने प्रत्याशियों की लिस्ट भी फाइनल कर दी है. सपा की ओर से सबसे ज्यादा खास कपिल सिब्बल का सपा की ओर से नामांकन पत्र दाखिल करना है. कपिल सिब्बल ने अखिलेश यादव की मौजूदगी में नामांकन दाखिल किया है. नामांकन के बाद कपिल ने कहा कि 16 को ही उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है. अब मैं कांग्रेस का नेता नहीं हूं. मैं पिछली बार भी यूपी से राज्यसभा गया था. मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का मोर्चा बना रहे हैं. विपक्ष में रहकर गठबंधन बनाना चाहते हैं. अखिलेश यादव ने कहा कि सपा को कपिल सिब्बल जैसे नेताओं की जरूरत है. कपिल सिब्बल अपनी बात अच्छे से रखते हैं.

पहले सपा कार्यालय पहुंचे फिर नामांकन के लिए
इससे पहले, बुधवार दोपहर कपिल सिब्बल ने सपा कार्यालय पहुंचकर अखिलेश यादव से मुलाकात की. यहां से अखिलेश यादव के साथ नामांकन करने पहुंचे. राम गोपाल यादव मौजूद रहे.सपा कपिल सिब्बल के अलावा डिंपल यादव, जावेद अली खान को राज्यसभा भेजेगी. बुधवार को जावेद अली खान की नामांकन फीस सपा विधायक मनोज पारस ने जमा की.

जावेद अली से पूरी करेंगे आजम खान की कमी
आजम खान के जेल जाने के बाद से ही अखिलेश यादव पर मुस्लिमों से दूरी बनाने के आरोप लगते रहे हैं. जेल से छूटने के बाद आजम के बयानों से उनकी नाराजगी भी स्पष्ट हो चुकी है. ऐसे में जावेद अली खान को राज्यसभा भेजना अखिलेश यादव की मुस्लिमों को अपने पक्ष में करने की कोशिश बताई जा रही है. हालांकि जावेद अली खान पहले भी राज्यसभा सदस्य रह चुके हैं.

चार जुलाई को खत्म हो रहा कार्यकाल
वर्तमान में राज्यसभा में सपा के पांच सदस्य हैं. इनमें से चौधरी सुखराम यादव, कुंवर रेवती रमन सिंह और विशंभर प्रसाद निषाद का कार्यकाल चार जुलाई को समाप्त हो रहा है. वर्तमान में उत्तर प्रदेश विधानसभा में 403 सीट हैं. इनमें से दो सीट खाली हैं. ऐसे में वर्तमान में 401 विधायक हैं. भाजपा और उसके सहयोगी के पास 273 सीटें हैं. ऐसे में उसका राज्यसभा की सात सीटों पर कब्जा पक्का है. वहीं सपा के पास 125 सीटें हैं. ऐसे में तीन सीटें जीतने में उसे भी कोई परेशानी नहीं होगी.

ये है राज्यसभा चुनाव का कार्यक्रम
यूपी की 11 सीटों में से भाजपा को 7, सपा को 3 सीट मिलना तय
राज्यसभा में यूपी की 11 सीटों के लिए चुनाव 10 जून को होगा। इन सदस्यों का कार्यकाल 4 जुलाई को समाप्त हो रहा है. इसके लिए नामांकन 24 से 31 मई तक दाखिल किए जाएंगे. एक जून को नामांकन पत्रों की जांच होगी. 3 जून तक नाम वापस ले सकेंगे. 10 जून को सुबह 9 से शाम 4 बजे तक मतदान होगा. शाम 5 बजे से मतगणना शुरू होगी. मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने इसका कार्यक्रम जारी कर दिया.