सिटी न्यूज़

गोरखपुर में वसूली से बचने के लिए राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए लगी लाइन, 2006 कार्ड सरेंडर

गोरखपुर में वसूली से बचने के लिए राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए लगी लाइन, 2006 कार्ड सरेंडर
UP City News | May 19, 2022 12:31 PM IST

गोरखपुर. उन्नाव जिले में वसूली से बचने के लिए राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए लाइन लग रही है. तीन दिन छुट्‌टी के बाद मंगलवार को जिला पूर्ती कार्यालय खुला तो राशन कार्ड सरेंडर करने वाले अपात्रों की भीड़ लग गई और लाइनें लगने लगीं. हालांकि शासन ने समयावधि बढ़ाकर 20 मई कर दी है लेकिन वसूली के डर से कार्ड लौटाने वालों की संख्या बढ़ गई.

वसूली के डर से 5 हजार राशन कार्ड सरेंडर किए गए. अवैध राशन कॉर्ड बनवाने वालों पर कार्रवाई होगी. अपात्र पाए जाने पर कार्डधारकों से राशन की वसूली होगी. जिले में तीन लाख दो हजार से अधिक राशन कार्ड बनाए गए हैं. इसमें 52495 अंत्योदय कार्ड बने हैं. शासन की ओर से अपात्र राशन कार्ड धारकों को कार्ड सरेंडर करने के फरमान के बाद एक अप्रैल से अब तक 869 लोगों ने अपने कार्ड को सरेंडर किया है. जिला पूर्ति विभाग की ओर से अपात्र राशन कार्ड धारकों के सत्यापन का कार्य कराया जा रहा है. अपात्र राशन कार्ड को निरस्त करने के लिए समस्त खंड विकास अधिकारी व अधिशासी अधिकारी को निर्देश जारी किया गया है. सत्यापन के दौरान अपात्र पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई चेतावनी दी गई है. अगर ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ रिकवरी की कार्रवाई भी की जाएगी. यही नहीं सरकार पात्रों से बाजार भाव से अनाज का दाम वसूलने की तैयारी की है. माना जा रहा है कि 24 रुपये प्रति किलो गेहूं और 32 रुपये प्रति किलो की दर से चावल वसूली की जाएगी.

कोरोना काल में सरकार ने राशन कार्ड बनवाने में छूट दी तो इसका फायदा हर किसी ने उठाया. सरकारी नौकरी, घर, कार और सुविधा होने के बाद भी अपात्र राशन कार्ड के हकदार बन गए. अब शासन ने अपात्रों को बाहर करने का निर्देश दिया है. जिसके कारण पिछले 15 दिनों से अपात्र राशन कार्ड जमा कर रहे है. मंगलवार को जिला पूर्ति कार्यालय में कार्ड जमा करने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ी. हाल यह हो गया कि पूर्ति कार्यालय के कर्मचारियों को आगे आना पड़ा. 2006 राशन कार्ड जमा किए गए. राशन कार्ड जमा होने के बाद कार्डधारकों के मोबाइल पर संपर्क किया जाएगा तथा फिर उनसे माली हालत की जानकारी ली जाएगी. वहीं पूर्ति विभाग हर तहसील में अलग से सर्वे कराएगा.