सिटी न्यूज़

आज का इतिहासः तुर्की और ऑस्ट्रिया ने किस मामले को लेकर शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए, जानिए

आज का इतिहासः तुर्की और ऑस्ट्रिया ने किस मामले को लेकर शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए, जानिए
UP City News | Sep 18, 2022 10:56 AM IST

नई दिल्ली. इतिहास के पन्नों को पलटेंगे तो कई ऐसी रोचक और महत्वपूर्ण तथ्य सामने आएंगे जिन्हें पहले कभी नहीं जानते थे. 18 सितंबर को पूरी दुनिया में बेहद खास घटनाएं घटी जिन्हें जानना हर नागरिक के लिए जरूरी है. बहुत सी घटनाएं बेहद सुखुद रहीं तो बहुत से हादसों में पूरे विश्व को हिलाकर रख दिया. यूपी सिटी आपको 18 सितंबर के इतिहास को आपके सामने रखने जा रहा है. जो बेहद महत्वपूर्ण है.

ये है तुर्की का इतिहास
तुर्की के इतिहास को तुर्क जाति के इतिहास और उससे पूर्व के इतिहास के दो अध्यायों में देखा जा सकता है. सातवीं से बारहवीं सदी के बीच में मध्य एशिया से तुर्कों की कई शाखाएँ यहाँ आकर बसीं. इससे पहले यहाँ से पश्चिम में आर्य (यवन, हेलेनिक) और पूर्व में कॉकेशियाइ जातियों का बसाव रहा था.

तुर्की में ईसा के लगभग 7500 वर्ष पहले मानव बसाव के प्रमाण यहां मिले हैं। हिट्टी साम्राज्य की स्थापना 1900-1300 ईसा पूर्व में हुई थी. 1250 ईस्वी पूर्व ट्रॉय की लड़ाई में यवनों (ग्रीक) ने ट्रॉय शहर को नेस्तनाबूत कर दिया और आसपास के इलाकों पर अपना नियंत्रण स्थापित कर लिया. 1200 ईसापूर्व से तटीय क्षेत्रों में यवनों का आगमन आरंभ हो गया. छठी सदी ईसापूर्व में फ़ारस के शाह साईरस ने अनातोलिया पर अपना अधिकार जमा लिया. इसके करीब 200 वर्षों के पश्चात 334 इस्वीपूर्व में सिकन्दर ने फ़ारसियों को हराकर इसपर अपना अधिकार किया. बाद में सिकन्दर अफ़गानिस्तान होते हुए भारत तक पहुंच गया था. इसापूर्व 130 इस्वी में अनातोलिया रोमन साम्राज्य का अंग बना. ईसा के पचास वर्ष बाद संत पॉल ने ईसाई धर्म का प्रचार किया और सन 313 में रोमन साम्राज्य ने ईसाई धर्म को अपना लिया. इसके कुछ वर्षों के अन्दर ही कान्स्टेंटाईन साम्राज्य का अलगाव हुआ और कान्स्टेंटिनोपल इसकी राजधनी बनाई गई. छठी सदी में बिजेन्टाईन साम्राज्य अपने चरम पर था पर 100 वर्षों के भीतर मुस्लिम अरबों ने इसपर अपना अधिकार जमा लिया. बारहवी सदी में धर्मयुद्धों में फंसे रहने के बाद बिजेन्टाईन साम्राज्य का पतन आरंभ हो गया. सन 1288 में ऑटोमन साम्राज्य का उदय हुआ और सन् 1453 में कस्तुनतुनिया का पतन हो गया. इस घटना ने यूरोप में पुनर्जागरण लाने में अपना महत्वपूर्ण भूमिका अदा की.

वर्तमान तुर्क पहले यूराल और अल्ताई पर्वतों के बीच बसे हुए थे. जलवायु के बिगड़ने तथा अन्य कारणों से ये लोग आसपास के क्षेत्रों में चले गए. लगभग एक हजार वर्ष पूर्व वे लोग एशिया माइनर में बसे। नौंवी सदी में ओगुज़ तुर्कों की एक शाखा कैस्पियन सागर के पूर्व बसी और धीरे-धीरे ईरानी संस्कृति को अपनाती गई। ये सल्जूक़ तुर्क थे.

18 सितंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
-फिलिप अगुस्टस 1180 में फ्रांस का राजा बना.
-क्रिस्टोफर कोलंबस 1502 में कोस्टारिका पहुँचे.
-इंग्लैंड के राजा जेम्स 1615 में प्रथम के एंबेसडर थामस रॉ जहाँगीर से मिलने सूरत पहुँचा.
-फर्डिनैंड द्वितीय ने 1635 में फ्रांस के खिलाफ युद्ध की घोषणा की.
-तुर्की तथा ऑस्ट्रिया ने 1739 को शांति समझौते पर हस्ताक्षर किये.
-अंग्रेजों ने 1803 में ओडिशा के पुरी पर कब्ज़ा किया.
-शेक्सपीयर के मैकबेथ नाटक के साथ रॉयल थिएटर को 1808 में मरम्मत के बाद सजा धजा कर दोबारा खोला गया.
-लंदन में 1809 को रॉयल ऑपेरा हाउस खुला.
-चिली ने 1810 में स्पेन से स्वतंत्रता की घोषणा की.
-न्यूयार्क टाइम्स अख़बार ने 1851 में प्रकाशन शुरू किया.
-नीदरलैंड के रोटरडम शहर में 1905 को विद्युत ट्रामलाइन की शुरुआत हुई.
-हॉलैंड में 1919 को महिलाओं को मतदान का अधिकार मिला.
-हंगरी लीग ऑफ नेशंस में 1922 को शामिल हुआ.
-न्यूयार्क में 1923 को समाचारपत्र प्रकाशकों की हड़ताल हुई जो 23 सितंबर तक चली.
-जापान की सेना ने 1931 को पूर्वोत्तरी चीन में स्थित मन्चूरी के क्षेत्र पर क़ब्ज़ा कर लिया। यह क़ब्ज़ा चीन और -जापान के बीच दूसरे युद्ध का कारण बना। जापानियों ने मन्चूरी पर नियंत्रण के पश्चात वहॉ मेन्टको की पिटठू सरकार स्थापित कर दी.
-राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1947 को पारित हुआ.
-अमेरिका में वायु सेना का गठन 1947 में हुआ.
-अमरीका के तत्कालीन राष्ट्रपति जिमी कार्टर की मौजूदगी में 1978 को मिस्र के राष्ट्रपति अनवर अल सादत और -इसरायल के प्रधानमंत्री मेनाकेम बेगिन शांति के लिए राजी हुए थे.
-बर्मा ने 1988 में अपना संविधान रद्द किया.
-मुम्बई से पहली बार महिला चालकों ने 1986 को जेट विमान उड़ाया.
-ओज़ोन परत की रक्षा के लिए 100 देशों ने सन् 2015 तक मिथाइल ब्रोमाइड का उत्पादन बन्द करने का निश्चय किया.
-सं.रा. अमेरिका के ऊपर संयुक्त राष्ट्र का 1 अरब डॉलर बकाये की घोषणा 1998 में की.
-ढाका-अगरतला बस सेवा 2003 में शुरू.
-रूसी राकेट सोयूज अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए 2006 में रवाना.
-कनाडा में 1960 के दशक में जीवाश्‍म की खोज से तहलका मचाने वाले भारतीय जियोलॉजिस्‍ट जी.बी. मिश्रा को 2007 में विशेष सम्‍मान से नवाजा गया.
-शोभना भरतिया एच.टी. मीडिया की अध्यक्ष नियुक्त 2008 में हुई.
-सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कम्पनी एच. सी. एल. के संस्थापक अध्यक्ष शिव नायर को 2009 में ब्रिटेन के ट्रेड एंड इन्वेस्टमेंट बिजनेस पर्सन ऑफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया.
18 सितंबर को जन्मे व्यक्ति
-भारतीय हास्य कवि काका हाथरसी का जन्म 1906 में हुआ.
-हिन्दी फ़िल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री शबाना आज़मी का जन्म 1950 में हुआ.
-भारतीय अभिनेता विनय राय का जन्म 1979 में हुआ.
-भारतीय अभिनेत्री सनाया ईरानी का जन्म 1983 में हुआ.
-मॉरीशस के प्रथम मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री एवं छठे गवर्नर-जनरल शिवसागर रामगुलाम का जन्म 1900 में हुआ.
18 सितंबर को हुए निधन
-बांग्ला भाषा के प्रसिद्ध लेखक और बंगाली पुनर्जागरण के चिंतकों में से एक राजनारायण बोस का निधन 1899 में हुआ.
-प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ तथा अधिवक्ता जोसेफ़ बैपटिस्टा का निधन 1930 में हुआ.
-हिंदी फ़िल्मों के हास्य अभिनेता असित सेन का निधन 1953 में हुआ.
-स्वतंत्रता सेनानी सारंगधर दास का निधन 1957 में हुआ.
-‘भारत रत्न’ सम्मानित स्वतंत्रता सेनानी, समाज सेवी और शिक्षा शास्त्री भगवान दास का निधन 1958 में हुआ.
-संयुक्त राष्ट्र के दूसरे महासचिव डैग हैमरस्क्जोंल्ड का निधन 1961 में हुआ.
-भारत के पहले मुस्लिम मुख्य न्यायाधीश, वे भारत के प्रथम कार्यवाहक राष्ट्रपति मुहम्मद हिदायतुल्लाह का निधन 1992 में हुआ.
-मराठी भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार शिवाजी सावंत का निधन 2002 में हुआ.